You are here
Home > रोचक पोस्ट > इस गावं में हमेशा बिना कपड़ों के रहती है महिलाएं असलियत जान कर हो जायेंगे हैरान –
loading...
loading...

इस गावं में हमेशा बिना कपड़ों के रहती है महिलाएं असलियत जान कर हो जायेंगे हैरान –

भारत आज भले ही विकसित देशों की श्रेणी में रह  रहा हो | लेकिन हमारे देश में आज भी कुछ जगह ऐसी है जो हमारी पुरानी परम्पराओं को निभाती है | भारत आज जहाँ विश्व गुरु बनने की रेस में लगा हो लेकिन हमारे भारत के ही गाँव कुछ ऐसे है | जहाँ सैकड़ो पुरानी परम्पराएँ चल रही है |कभी कभी ये मान्यता ऐसी होती है जिन्हें सुनकर लोंगो के| कान खड़े हो जातें है |

जी हाँ आज हम आप को हिमाचल प्रदेश के पीनी गावं की एक ऐसी कहानी जो आपको हैरान कर देगी  हिमाचल प्रदेश की घाटी में पीनी गावं स्थित है |

जहाँ इस तरह की अजीब परंपरा कायम है | और साथ ही साथ लोगों पर इसका खूब विश्वास भी है | दरअसल पीनी गावं में जो रिवाज चला आ रहा है उसमे हर साल पति अपनी    पत्नी से पांच दिनों तक कोई बात भी नहीं कार सकता और यही नहीं यहाँ की महिलाएं साल के पांच दिन बिना कपड़ों के रहती है | और साथ ही साथ अपना हर काम बिना कपड़ों के ही करती है | गाव के बुजुर्गो का मानना है की अगर यह महिलायें ऐसा नहीं    करती तो यहाँ कुछ न कुछ अशुभ होना तय है | और तो और यहाँ के लोग 5 दिनों तक शराब को हाँथ भी नहीं लागतें है | अब आप इस बात को लेकर जरुर    सोच रहें होगे की ऐसी कौन  सी परंपरा है  जिसमे साल के पांच दिन बिना कपड़ों के रहना पड़ता है |

भारत के इस गांव में अभी भी लोग इस परंपरा को मानते आ रहे है। हिमाचल के पीणी गांव में सालों से ये रिवाज चलता आ रहा है। मणिकर्ण घाटी में स्थित इस गांव में शादीशुदा महिलाओं को पांच दिनों तक बिना कपड़ों के रहना पड़ता है। वो ऊन से बने पट्टू ही ओढ़कर अपना तन ढ़कती हैं। वहीं पुरुष शराब सेवन भी नहीं करते।साल के पांच दिन तक पति-पत्नि एक दूसरे से हंसी मजाक नहीं कर सकते। अगस्त के 17 से 21 के बीच ये लोग काला महीना मनाते है। इस दौरान महिलाएं निर्वस्त्र रहती है। यहां के लोगों का मानना है कि ऐसा नीं करने से देवता नाराज हो जाएंगे। दरअसल इन लोगों का कहना है कि लाहुआ घोंड देवता जब पीणी पहुंचे थे तो उस दिन राक्षसों का आतंक था। लेकिन देवता ने पीणी में पांव रखते ही राक्षसों का विनाश हो गया। जिसके बाद से ही ये परंपरा शुरू हुई थी। इस परंपरा को आज भी ये लोग मान रहे है।

यहाँ के लोंगों का मानना है की जिन दिनों पीनी गाँव में राछसो का आतंक था | यहाँ पर लहुगा घोड़ देवता आये थे | और  राछसो का उन्होंने विनाश किया था | तब से ये प्रथा आज तक कायम है | और इस गावं की महिलाओं को पूरे 5 दिन तक निवस्त्र रहना पड़ता है | और यह परंपरा सदियों से चली आ रही है |

देखें विडियो –

Leave a Reply

loading...
Top
loading...