You are here
Home > रोचक पोस्ट > कही आपको आपका दर्पण तो नहीं बना रही बदनसीब जाने घर में इन जगह पर रखे दर्पण होगी धन वर्षा
loading...
loading...

कही आपको आपका दर्पण तो नहीं बना रही बदनसीब जाने घर में इन जगह पर रखे दर्पण होगी धन वर्षा

वास्तुशास्त्र में दर्पण का विशेष महत्त्व है यदि दर्पण को वास्तु शास्त्र के आनुसार रखा जाये तो कभी भी धन की कम नहीं होती ,सौभाग्य की कभी कमी नहीं होती | लेकिन अगर दर्पण को वास्तु शास्त्र के विपरीत रखा जाये तो इसका विपरीत परिणाम पड़ता है  तो चलिए जानते है की दर्पण को कहा रखा जाये की इसका सकारात्मक प्रभाव हमारी जिंदगी में हो और कभी धन सौभाग्य की कमी न हो |

 

सबसे पहले आपको यह बताना चाहते है की दर्पण को घर या दुकान जहाँ कही भी आप अपने पैसे को इकट्ठा या जमा करके रखते है उसके सामने दर्पण को लगाये जिससे उस तिजोरी में आपकी अलमारी या तिजोरी दिखे जिसमे आपने अपने पैसे रखे है इससे आपके घर या दुकान में कभी भी पैसे की कमी नहीं रहेगी हमेशा आय सम्पति में वृद्धि होती रहेगी |घर या दुकान जहाँ पर भी मेन गेट हो वहा पर दर्पण को लगाये इससे क्या होगा की बाहर  से आने वाली नकारात्मक उर्जा घर में प्रेवश नहीं कर पायेगी जिससे हमारा काम सकारात्मक काम में लगेगा ताकि हम तरक्की कर पाएंगे |इसके साथ ही यह घर और दुकान को बुरी नजर से भी बचाता है |

विवाह योग्य लड़के लडकियों के कमरे के दरवाजे के सामने दर्पण को कभी भी नहीं रखना चाहिए इससे उनके विवाह में बाधा आती है |

कभी भी दर्पण को टीवी या कंप्यूटर के सामने नहीं रखना चाहिए यह बहुत बड़ा अशुभ  होता है ,ऐसा होने पर घर में लड़ाई झगड़े होते हैं |

कभी भी घर हो या दुकान हो उपर जाने के लिए जो सीढ़ी होती है ,इसके पास कभी भी दर्पण नहीं होना चाहिए ऐसा होने से घर में जो भी लोग हैं उनकी तरक्की रुक जाती है |

जहाँ बी आपका भंडार कक्ष है ,जहा भी आप सामान रखते हैं वहा पर दर्पण लगाना सुभ मन जाता है ,आप ऐसी जगह दर्पण लगा सकते है की उसमे आपकी दुकान या घर दोगुनी दिखे इससे धन की कभी कमी नहीं होती हमेशा लक्ष्मी जी प्रशन्न रहती है |

बाथरूम में अक्सर लोग दर्पण लगाते है ,लेकिन बाथरूम के गेट के पास कभी भिन्दर्पण को न लगाये .ऐसी जगह दर्पण न लगाये की जैसे ही आप बाथरूम में गुसे तो आपको दर्पण ही दिखे | ऐसी जगह में रखने से यह अशुभ होता है वास्तु शास्त्र में यह जगह बिल्कुल ही वर्जित है |

Leave a Reply

loading...
Top
loading...