एक महीने तक दुश्मन ग्रह रहेंगे साथ, 5 राशियों को राहत अन्य करें ये उपाय

पौराणिक दृष्टिकोण से शनि और सूर्य में पिता और पुत्र का संबंध है। शनि सूर्य की दूसरी पत्नि छाया के बेटे हैं। शनि ने पैदा होते ही सूर्य पर क्षय रोग लगा दिया था। महादेव के उपरांत दण्ड अधिकारी की पदवी भी शनि को सर्वाधिक क्रूर ग्रह बनाती है। ज्योतिष के दार्शनिक खण्ड के अनुसार शनि की युति जब कभी भी अपने विरोधाभासी ग्रहों के साथ होती है तब शनि पूर्ण क्रूरता से अपना दण्ड समस्त जनता पर सुनिश्चित करते हैं।


 16 दिसंबर 2017 को प्रात: 7:11 मिनट पर सूर्य और शनि की युति हो गई है। जो आने वाले एक माह तक रहेगी। यह युति 14 जनवरी 2018 को रविवार दोपहर 2 बजे खत्म होगी। आने वाले एक महीने तक शनिदेव स्वयं पीड़ित होकर जनता को भी पीड़ित करेंगे। इस अस्तकाल में जहां 5 राशियों (वृष, कन्य, वृश्चिक, धनु और मकर) के कष्ट कम होंगे वहीं दूसरी ओर अन्य राशियों की सफलता में अड़चने आएंगी।


कुप्रभाव से बचने और शुभ प्रभाव के लिए करें ये उपाय

तांबे के दिए में सरसों के तेल का एक महीने तक दीपक करें।

पानी में काले तिल मिलाकर सूर्य को अर्ध्य दें।

काले शिवलिंग पर शहद से अभिषेक करें।

शनि मंदिर में औषधी युक्त लाल तेल का दीपक करें।

गुड़ और तिल से बने हुए मिष्ठान मेहनतकश मजदूरों में बांटे।

किसी साधू को तवा भेंट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *