You are here
Home > देश-विदेश > आखिर क्यों 176 सालो से बोतल में बंद है ये कटा हुआ सिर हैरान कर देगी वजह
loading...
loading...

आखिर क्यों 176 सालो से बोतल में बंद है ये कटा हुआ सिर हैरान कर देगी वजह

प्राचीन  मिश्र में इंसानों के शरीर को मरने के बाद भी रखा जाता था जिनकी ममी आये दिन मिलती रहती  ने सबसे पहले हैं लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा की पुर्तगाल विश्विद्यालय में  दिओगो अल्वेस का सर करीब 150 सालो से एक बोतल में रखा हुआ है जो की एक सीरियल किलर था |यह नौकरी की तलाश में आया था लेकिन बाद में बन गया था खूंखार सीरियल किलर |

दिओगो अल्वेस का जन्म स्पेन में 1810 में हुआ था वह अपने जवानी के दिनों में काम की तलाश में पुर्तगाल के एक शहर आया था  दिओगो अल्वेस काफी समय तक    काम की तलाश की लेकिन   नाकामयाब रहा इसके चलते बाद में उसने क्राइम की दुनिया में कदम रख दिया | दिओगो अल्वेसने सबसे इ लूट पाट का रास्ता अपनाया जिसके आसान शिकार किसान हुआ करते थे |इसके लिए  दिओगो अल्वेस ने   लिस्बन में नदी पर बने एक पुल को चुना जिस पर से  शाम के बाद अक्सर किसान अनाज और सब्जिया बेचकर अपने गावं लौटा करते थे |  दिओगो अल्वेस जैसे ही किसी अकेले किसान को देखता तो लूट के  उसका मर्डर कर देता था और  लाश को पुल से नदी में फेक देता था |

दिओगो अल्वेस ने ऐसे दर्जन लोगो को मौत के घाट उतार दिया था जब पोलिश के पास गायब हो रहे किसानो की खबर पहुची तो उन्हें लगा की आर्थिक तंगी के कारण किसान आत्महत्या कर रहे हैं लेकिन नदी से ऐसे शव मिले जिसपे धार दार हथियारों से निशान थे इससे बाद में पोलिश को शक हो गया की किसानो का मर्डर किया जा रहा है | जब पोलिश ने जाँच शुरू की तब  दिओगो अल्वेस तीन साल तक के लिए अंडर ग्राउंड हो गया इसके बाद उसने फिर से वही काम शुरू कर दिया |

दिओगो अल्वेस समझ गया की अगर वह अकेले रहा था बड़ी लूट नहीं कर पायेगा और पकड़ा जायेगा इसी के चलते उसने ऐसे लोगो को    तलाशना   शुरू किया जो बेहद गरीब थे ऐसा करके उसने अपना एक गैंग बना ली और लोगो को मारना शुरू कर दिया |इसके लिए उसने काफी मात्रा  हथियार भी खरीद लिए थे जिससे वह पोलिश का भी समाना कर सकता था |करीब एक शाल तक उसने बहुत से लोगो    को मौत के घाट उतार दिया ,पोलिश के हिसाब से उसे लोगो को क्रूरता से मारने में जादा मजा आता था |

 


अपनी लूट के बाद एक डॉक्टर का भी बेरहमी से क़त्ल कर दिया और फरार हो गया पोलिश को तुरन ही इसकी जानकारी मिल गयी और उनका शक  दिओगो अल्वेस पर हो गया आखिरकार कुछ दिनों के बाद ही  दिओगो अल्वेस पोलिश की गिरफ्त में आ गया और उसे 70 से अधिक लोगो की क्रूर हत्या के आरोप में फासी की सजा सुनाई गयी जब  दिओगो अल्वेस को फासी दी गयी तब पुर्तगाल में फ़ासी विज्ञानं एक सब्जेक्ट हुआ करता था |
मस्तिस्क की उन कोशिकाओ की जाँच करना जिनमे इन्शान की ब्यक्तित्व का पता लगाया जा सके इसके लिए वैज्ञानिको को इन्सान के मस्तिस्क की तलास रहती थी |

इसी के चलते पुर्तगाल के  वैज्ञानिको ने  दिओगो अल्वेस के सर लेने की अपील करी इस तरह फासी के बाद  दिओगो अल्वेस का सर काटकर दे दिया गया जो अब भी ममी के रूप में एक  बोतल में बंद है |

Leave a Reply

loading...
Top
loading...